ज़िंदगी…..

ज़िंदगी तो ज़िंदगी है, ज़िंदगी बस ज़िंदादिली है, क्योंकि ज़िंदगी ज़िंदादिलों से ही तो बनी है। कभी हर हफ्ते के आखिर में पापा से मिलने वाली उस पॉकेट मनी सी सुनहरी, तो कभी महीने के अंत में झांकते खर्चों की फेहरियत सी बड़ी है, क्योंकि ज़िंदगी तो ज़िंदगी है कभी आलू के पकौड़ों की प्लेट …

A hut…….!

"Love, cannot surely be the simplest of feelings of course, but love is yet the most desired of all the feelings anyway...........he dared to exclaim through expression and actions, so simple yet so deep to be denied or neglected..........and so respectful in reality," said the book's introduction. She was impressed by the book's cover, but …

I write to…..

I write to the right sometimes, I write to write yet another time. I find none faithful to the right, so I write to make it right sometimes, I write to what's after all, right yet another time.....! I write to all that is blind sometimes, I write about the visuals to indecent adjustments yet …

कह दूंगी

कभी हकीकत कभी ख्वाब, कभी याद कभी हालत मेरी ख्वाहिश में अक्सर डूब कर रह जाता है हर वजूद का जवाब। कह दूंगी मैं भी हकीकत कभी, या चुप रह जाऊंगी,या शायद बस यादों के झरोखे से छुप कर ही देख आऊंगी, देख आऊंगी उस वक्त की कहानी, जब वक्त के हवालों से हुई थी …