बचपन

कभी वो रात में नींद न आना, तो कभी पॉवर कट की वजह से आती नींद का भी उड़ जाना। कभी वो पूजा की तैयारी, कभी बेमतलब ही वो कार्टून्स से की थी हमने भी यारी

बचपन कितना मासूम और कितना सच्चा था, वो बचपन कितना मासूम और सच्चा था जिसकी यादों का हर पल लगता दिल को अच्छा था।

कभी अपनो की गलती को छुपा कर, खुद डांट सुन लेना तो कभी जानबूझ कर गलतियों पर किसी को डांट पड़वाना।

बचपन कितना मासूम और कितना सच्चा था, वो बचपन कितना मासूम और सच्चा था जिसकी यादों का हर पल लगता दिल को अच्छा था!

कभी वो लड़ झगड़ कर भी एक निवाले से बनता प्यार, कभी वो गलतियों पर पड़ने वाली मार। कभी टीवी तो कभी AC के रिमोट पर झगड़ जाना, तो कभी किसी अपने की खुशी के लिए स्पाइडरमैन भी बर्दाश्त कर जाना

बचपन कितना मासूम और कितना सच्चा था, वो बचपन कितना मासूम और सच्चा था जिसकी यादों का हर पल लगता दिल को अच्छा था!

कभी आसमान के चांद को पानी की परछाई से हथेली में कैद करना, कभी दिल्ली की बरसात में कागज़ की कश्ती से दिल में उमड़ती खुशियां टटोलना

बचपन कितना मासूम और कितना सच्चा था, वो बचपन कितना मासूम और सच्चा था जिसकी यादों का हर पल लगता दिल को अच्छा था!      

कभी चाट और चूरन की चटपटी मुस्कान तलाशना, कभी सूखी रोटी से ही भर पेट खुश होना

बचपन कितना मासूम और कितना सच्चा था, वो बचपन कितना मासूम और सच्चा था जिसकी यादों का हर पल लगता दिल को अच्छा था!      

कहीं ब्रांडेड कपड़ों की चमक से नखरिले दिन गुजरना, कहीं फटे पुराने में भी साल का हर त्योहार बिताना।

बचपन कितना मासूम और कितना सच्चा था, वो बचपन कितना मासूम और सच्चा था जिसकी यादों का हर पल लगता दिल को अच्छा था!      

Out with a new post, don’t forget to check it out, like, share, follow and comment me your views, I’d be happy to hear them out🤗✌️! Join me on the other side to the known, where I share life as I see it through the darkness!!!✌️✌️✌️          

4 Replies to “बचपन”

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s